Wednesday, 22 February 2017

14 comments

Bahut badiya prayas anik team dwara

Reply

अधूरी हसरते पूरी करती अनिक

अनिक का feb2017 अंक हाज़िर है अपने ही अंदाज में प्यार को समर्पित ।
जब आप इसे पढ़ना शुरू करते है तो जैसे किसी यात्रा पे निकल जाते है जो आपको प्रेम के बारे में कहानियों, लेखों ,कविताओं ,कॉमिक्स के माध्यम से अवगत कराती जाती है।
कहानियों में अधूरी हसरते और एक वादा भावुक करती है वंही सुपरहिरोज छूटी पर और अपहरण गुदगुदाती है तो जुनून सस्पेंस जगाती है ।
कविताऐं और लेख बहुत अच्छे लिखे गए है ।
प्रेम पत्र हँसाता है तो कॉमिक्स स्ट्रिप और आर्ट गजब है
कॉमिक्स समीक्षा और पात्र परिचय बढ़िया दिया गया है
कुल मिलाकर अबकी बार अनिक काफी बढ़िया आई है परन्तु ये तो बस कुछ अच्छे की शुरुआत है ।

By-Prकाश

Reply

RIVEW- ANIK
HI GUYS.... SO TIME TO RIVEW ANIK 4TH PART. SO ANIK KA YEH MERA PEHLA REVIEW HOGA SO KOSHISH KRUNGA KI BEST REVIEW HO.SO SABSE PHELE TOH " Bahut der kar mehrbaan aate aate". so let's start review anik. me per page ya per story ka alag se review dunga so.
1. COVER PAGE- colouring kafi behad hai. background me dil accha lagta hai but ptaa nhi kyu suraj ki pili roshani ko aag ki trah jalta dikhaya hai. So koi mere hisaab se shaam ke time aisa khin nhi hota hoga. 7.5/10
2. Second page or index- background kafi behad hai. colouring phir sahi hai. background me dil awesome background. 8.7/10
3. Sampadikiya- background awesome hai. lekhan kafi accha hai. prem ki parifasha aur j.p, premchandra ke udaharn lekar joh pyar ki paribhasha byaan ki hai woh sahraniya hai. uske baad kch pankitiyon ka istemaal krke pyar ko bakhoobi byaan kiya gya hai. basant ritu ka udaharn ho ya mira, radha aur surdas ka. aur jate jate ek kavitase khatam karna bahut umda vichar tha joh readers ka man moh le. 8.7/ 10.0
4. prem ki paribhasha- iss ki shuruwaat hii ek buri khabar se hui aur phir prem ka sahi matlab btane ki koshish ki gayi. ise padte hue dimaag me sirf ek hii khyaal aa rha tha kab soni- mahiwaal, heer- rangha, romeo- juliet ka jikr ho so thoda afsos hai. par lekhak ne radha aur shyaam ka jikr kiya joh apni nazar me dekha jaye sahi hai par sab jante hai ki shyaam ne radha ko chor kar rukmani se vivah kiya. agar prem ke liye naam judna hii kafi hai toh sahi hai par mere hisaab se prem toh soni- mahiwaal, romeo- juliet, heer- ranjha ka tha jinka pura samaj dushman tha phir bhi dono mar ke ek ho gaye. phir lekhak ke hisaab se valentines day pe comments pdh ke lagta hai jese inki valentine week se koi dushmani ki sirf burayi joh ek trah se sahi par har sikke ke do pahlu hote hai. aapke hisaab se valentines week bura hai toh kisi ke hisaab se accha. mughe nhi lagta ki iski jarurat thi bhi. baki lekhak ne prem ko apne hisaab se byaan karne ki koshish ki joh sahraniya hai jese prem me apne anurup premi nahi dekha jata. jese khaawat hai opposite aatracts. prem apne aap ho jata hai. aur jhaan prem hota hai whaan sharten nhi hoti. 7.5/10
5. aaila valentine hai- kavita padh lagta hai apne kavi mhodya ko valentines day ka tajurba hai. kavita ki bhasha, likhne ki klaa sahraniya hai. laajwaab aur umda. padte hue chehre pe smile aa jaye. 8.8/10.0
6. “मुक़म्मल इश्क़, अधूरी हसरतेंऔर नीला आसमान”- kya likha hai. jyada nhi bolunga par itna hi khunga ki lekhak ne sabit kar diya ki prem amar hai. woh mar nhi sakta. ek pal toh story boring lagi magar phir toh sirf aankhon se aansu hii nikle. 9.1/10.0
7. प्यार से परहज़
- kya baat hai lekhak ki superheroes ka dil chu liya. baki apna pyar kurbaan kar desh ki raksha karna bahut kathin hai. like humare fauji bhai log. ek hero hone ke kuch disadvantages but agar koi insaan kisi villain se apna pyar nhi bcha sakta toh woh duniya ki raksha bhi nahi kar sakta. kyuki yeh uska prem hai prithavi ke har shaksh ke liye joh woh superhero bnaa.dhruv aur natasha isliye alag hue kyuki natasha villain ban gayi thi. and visarpi ne nagraaj se shadi karne ko mnaa kar diya nagraani ke karan. superman ne louise lane se shadi ki. batman ne wonder woman se. so i think superheroes ka pyaar bhi pura hota hai. 8.6/10.0
8. प्यार इबादत ह...!!- jis chiz ka intezaar tha woh yhaan mili. pyaar ki sahi defination. kam shabdon pe pyar ko kya khub byaan kiya hai lajwaab. par lekhak ne kanjusi bahut ki hai. 8.6/10.0
9.

Reply

Very fine efforts
Loved previous works

Reply

बहुत बढ़िया किताब बनाई है आपने!
प्रेम विशेषांक नाम से ही प्रेम करने वालों के मन में अन्दर क्या है उत्सुकता ले आई है!
हर महीने पाठकों को 60 पेजों का मनोरंजन देने का यह सिलसिला बनाए रखें!

Reply

रिव्यु
प्रेम की परिभाषा: बहुत ही अच्छा लेख। लेखक बहुत ही टैलेंटेड है और उसने बहुत ही अच्छे ढंग से प्रेम को परिभाषित किया है। इस लेखक की जितनी तारीफ की जाए वो कम हैं। आप लोगो को भी लेखक की भरपूर तारीफ करनी चाहिए।( ये लेख मैंने ही लिखा है इसलिए अपनी और तारीफ नहीं कर सकता। बाकी की आप लोग कर लीजिए)
अईला वैलेंटाइन है : अंकित भाई की कलम से एक और अच्छी कविता पढ़ने को मिल रही है। आज के समाज और युवा के मन में जो सब चलता है वो सब कुछ पढ़ने को मिला इस कविता में। हास्य से भरपूर थी ये कविता। सबस मस्त लाइन लगी "आज कह रहे है बेबी- बाबु कल बोलेंगे डायन है।"
अधूरी हसरते, मुकम्मल इश्क़, नीला आसमान : रिशव भाई आपने कमाल कर दिया। मतलब सच में ये कहानी पढ़ते हुए मेरी आँखें भी नम हो गयी थी। इसे कहते है कहानी। मतलब कांसेप्ट इतना सिंपल था मगर उस कांसेप्ट को आपने भावनाओ का और प्रेम का जो तड़का लगाया न वो अद्भुत था। आपने बीच बीच में फ्लैशबैक से कहानी दिखानें का जो तरीका इस्तमाल किया वो अच्छा लगा। बेहतरीन कहानी।

Reply

अनिक का यह प्रेम विशेषांक उम्मीदों पर खरा उतरा है। सभी लेखक बधाई के पात्र हैं! गुड जॉब टीम अनिक! कीप इट अप!!

Reply

Sabse pehle baat krte hain prem ki paribhasha ki. Bahut hi accha lekh likha hai. Lekhak ne Sabhi ko prem ke sahi maayne bataye. Prem sirf hasil krne ka jariya nahi hai balki prem to samarpan hai, tyag hai. Sachmuch aaj ke samay me yuva akarshan ko prem samjh baithe hain. Saath hi saath pyar ka kis prakar bahut teji se bajarikaran ho raha hai , is baat ko lekhak ne ubhara hai. Beshak isko lekar sabki alag alag raay ho sakti hai lekin mera manna hai ki pyar to universal hota hai jo sabke hisse me aana chahiye, koi vishesh varg isse vanchit kyu reh jaaye.
Agar is lekh ke negative points ki baat ki jaaye to mujhe kuch khaas kami is lekh me nahi mehsus hui jiska me yahan jikr karun
.Yu to bahut si ullekhniye baaten hain lekin me jyada lamba na kheench kar yahi viram lagata hun.
Me is lekh ko 8.5/10 dena chahunga.

Reply

अब बात करते हैं, अंकित निगम द्वारा रचित कविता- "आईला वैलेंटाइन है " की। सबसे पहले मैं यह स्पष्ट करना चाहूंगा, यह कविता आज के दौर के कथित 'प्रेम' का सटीक वर्णन है जो ज्यादातर लोगों पर फिट बैठता है। ऐसा लगता है मानों हक़ीक़त से रूबरू हो रहे हों! तुकबंदी अच्छी है लेकिन एक स्थान पर तुकबंदी नहीं आ रही हालाँकि थोड़े प्रयास से आ सकती थी। अब बात करते हैं रस की। शुरू शुरू में किसी सामान्य कविता की भांति कुछ ख़ास उत्साहित नहीं करती किन्तु मध्य के पद्द अच्छे बन पडे हैं और जैसे जैसे कविता अपने अंत की तरफ बढ़ती है, अपनी पकड़ मजबूत करती जाती है। कविता ख़त्म होते होते मैं पेट पकड़ कर हँस रहा था।
मैं इस रचना को 8.5/10 देना चाहूंगा।

Reply

अब आते हैं 'अधूरी हसरतें,मुक़म्मल इश्क़, नीला आसमान' पर! सबसे पहले शीर्षक की बात करें तो शायद इससे अच्छा शीर्षक मुझे नहीं सूझ रहा! कहानी को सार्थक करता ये शीर्षक मेरे हिसाब से सटीक है। देखा जाए तो यह कहानी बहुत गहरी है।हर दो-तीन पंक्तियों के बाद लेखक के द्वारा इस्तेमाल की गयी उपमाओं और बारीकियों ने मन ही मन दाद देने को मजबूर कर दिया। पायल की छम-छम, ख़ामोशी जैसे बिना घुँघरू की पायल इत्यादि। अगर विस्तार से लिखने बैठा तो शायद काफी पन्ने भर दूंगा। मेरे हिसाब से इस कहानी में कोई कमी नहीं है। इस अंक की सबसे बेहतरीन रचना। कुछ मित्रों को इसके कुछ हिस्से बोरिंग लगते हैं तो मैं कहना चाहूंगा कि यही तो शैली है, भूमिका है। अगर यह न होती तो आप भावुक न होते! लेखक ने अनुलोम के अतीत को उसके वर्तमान से बांध कर रखा है और दोनों के बीच प्रशंसनीय संतुलन स्थापित किया है। अनुलोम और पायल का प्रेम सच्चा लगता है और पाठक इसे महसूस करते हैं। यही लेखक की सबसे बड़ी सफलता है, भाव वास्तविक जान पड़ते हैं। मैं आशा करता हूँ भविष्य में हमें ऐसी ही और रचनाएँ पढ़ने को मिलेंगी। लेखक को भविष्य के लिए ढेर सारी शुभकामनायें!
मेरी तरफ से 10/10

Reply

bohot badhiya tareeqe se present kiya hai aapne is Edition me. aapko aur aapki team ke liye dili-Shubhkaamnaaen

Reply

bohot badhiya tareeqe se present kiya hai aapne is Edition me. aapko aur aapki team ke liye dili-Shubhkaamnaaen

Reply