Sunday, 29 January 2017

12 comments

Bahut wait tha Anik 3 ka .. par thoda late aayi ..cop ka yh kadam saharniya h.. Anik ke sabhi writer/artist ka bahut bahut dhanywad.. puri Anik padhi .. yh part desh ko samrpit h .. article , stories bahut achchhi h .. short strip bhi achchhi lagi ... Tiranga ka art bhi achchha bana h .. main or bhi art ki ummid kar rha tha par kewal 1 hi art tha .. kuchh typing ya shabdo ki galatiya h wha dhyan dene ki jarurat h .. ab Anik Feb. Issue ka wait h

Reply

मोहित शर्मा मेरा हरयाणवी भाई
गुड वर्क��
[ अंकित भाई वाले 26 जनवरी के आर्टिकल में काफी गलतियां है
ऋषभ भाई कहानी बहुत ही अच्छी लिखी
गरीबो की सेवा करना ही राष्ट्र भक्ति है☺��
नापाक
ब्रह्मा ने अच्छा लिखा है
हरेंद्रा सैनी भाई ने आर्ट अच्छा बनाया है बस जहा नागराज की एंट्री है वहाँ उसके बाल ठीक नही बने
निशांत का काम तो होता ही अच्छा है
����������
काफी अच्छी स्टोरी लिखी आपने 1 भूल
इतनी अच्छी मै कभी नही सोच पाता ������������������������
बस कुछ जगह सीन और भी अच्छे लिखे जा सकते थे��
*मनीष मिश्रा भाई का पकिस्तान जिंदाबाद पर रिव्यु पढ़ा अच्छा लगा पर एक बात नही की इस स्टोरी को 3-4पार्ट में बनाते क्योकि मेने कल ही पढ़ा की दिल्ली बुक फेयर में लोग वो कॉमिक्स ढूंढ रहे थे जो 1 कॉमिक में खत्म हो जाये*
राज वालो से हम सीरीज को ले कर ही तो नाराज़ है��
*कमल पटेल भाई की हमारा देश हिंदुस्तान पढ़ी काफी अच्छी है 5 आउट ऑफ 5 वैसे ब्रह्मा को बोलना हिन्दुतानी कपडे बेचे पश्चमी नही�� बहुत अच्छा लिखा आपने*
: अभी राम चौहान की डोगा वाली स्टोरी पढ़ी सिर्फ इतना कहना चाहूंगा
*अगर आज के बाद डोगा की स्टोरी लिखी तो मुझसे बात मत करना*����
*अंकित निगम भाई की शहीदों को नमन पढ़ी काफी अच्छी है
असल मै मुझे कविता की ज्यादा समझ नही है इसलिए ज्यादा नही कहूँगा 4.7 आउट ऑफ 5*☺
*राकेश वर्मा का तिरंगा देखा अच्छा बना है पर भाई तिरंगा के मुँह में क्या है जो उसका फेस ऐसा बना दिया*������������
*ऋषभ कुर्मी का एक चाय वाला लेख पढ़ा बल्कि पढ़ा क्या सीखा की आखिर देख भक्ति क्या है बहुत ही अच्छा लिखा इस लिए हम सभी को एक दूसरे की मदद करनी चाहिए कोई मदद करने के लिए न मिले तो अपने आस पड़ोस की ही सेवा कर दीजिए जैसे की सफाई ,समय पर टैक्स भरना ,लोगो को हमारे देश की अच्छी बातों से रूबरू करवाना*����☺
*अभी मनीष अंकित की विनायक दामोदर सावरकर वीर सावरकर पढ़ी
शुरू शुरू में मुझे लगा क्या बोरिंग है कहाँ ध्रुव तारा बीच में आ गया पर जब सावरकर जी की कहानी आयी तो आँखों में 1 चमक आ गयी और फिर बीच बीच मै तिरंगा को उनके जैसा या उनके सिद्धान्तों पर चलने वाला बताना मज़ा आ गया बेस्ट आर्टिकल 5 आउट ऑफ 5* ������������������
*दिव्यांशु त्रिपाठी भाई की ये तो मेरा काम था पढ़ी बहुत ही अच्छी कहानी लिखी दिल को छू गयी 5 आउट ऑफ 5*������
*मनीष मिश्रा भाई की हल्ला बोल पर समीक्षा पढ़ी काफी अच्छा और डिटेल में बताया आपने की कहाँ क्या कमी रह गयी*
*कबीर का लेख पढ़ा मै हूँ तिरंगा बहुत ही अच्छा लेख है *
निशांत मौर्य अनीक 3 लाने के लिए थैंक्स

Reply

A great issue this time....very good works by all the contributors...there are spelling flaws but it has been sublimed by the patriotism!!

Keep putting efforts..all the best!!

Reply

अभी अभी अनिक का तीसरा इशू डाउनलोड किया है। ज्यादा नहीं पढ़ पाया हूं लेकिन जितना पढ़ा है, बेहतरीन है। कुछ टाइपिंग एरर्स हैं , आशा करता हूँ अगली बार नहीं होंगे। बाकी की मैगज़ीन को पढ़ने के लिए इन्तजार नहीं हो रहा। पूरी पढ़ने के बाद विस्तृत रिव्यु दूंगा।एक बार फिर से कहना चाहूंगा, सभी ने बहुत अच्छा किया है। गुड जॉब COP।

Reply

Anik ke is deshbhakti se bharpoor visheshank ka besabri se intzaar tha.
Sabhi kahaniyan,article,kavita,sansmaran ityadi bahut hi umda dhang se likhe gaye hai aur iske liye mein sabhi lekhako ko badhai dena chahta hoon.
Rishabh bhai ki kahani 'देशभक्ति' hamko deshbhakti ka sahi arth batati hai.
Vinay bhai ki kahani 'एक भूल' hame apne veer sainiko par garv karne ka hame ek aur mauka deti hai.
Ram bhai ki 'देशभक्ति और डोगा भक्ति'achhi lagi.
Brahma bhai,nishant bhai aur harendra saini bhai dwara banayi gayi chitrakatha bhi achhi lagi.
haryanvi fan ki chitti padhkar achha laga.
Rishabh bhai ka lekh 'गणतंत्र के मायने समझे ' sach me hame aaj ki samajik samasyaon par prakash dalta hai.
'26 जनवरी' jo ki ankit bhai ne likha hai hame is din ki mahatta ko darshata hai.
Manish bhai dwara likhit Veer Savarkar par lekh achha laga.
Kabir bhai ka lekh hame tirange ki mahatta ko batata hai.
'हमारा देश हिंदुस्तान', 'शहीदों को नमन' औऱ 'भारत की आह' तीनो ही kavitayyein achhi lagi.
Rakesh bhai ka artwork avval darze ka tha.
Rishabh kurmi bhai dwara likhit 'एक चाय वाला' hame batati hai ki ham apne chote chote kamo se bhi desh ki badi seva kar sakte hai.
Manish bhai dwara di gai dono hi samikshaye sateek thi.
Agle ank ka intzaar rahega.

Reply
This comment has been removed by the author.

समीक्षा :- गणतंत्र के मायने समझे
लेखक :- रिशव आदर्श
समीक्षक :- सजल सहाय (शैडो मास्टर)
रिशव भैया आपने जो ये लेख लिखा है सच मुच आँखे खोल देने वाला है.......बहुत दार्शनिक है......मजा आ गया. आपने जो-जो बाते उजागर की है.....अगर उसपर विचार किया जाए जो हम पाएंगे की किसानो और शिक्षा व्यवस्था में सुधार न के बराबर ही हुआ है. और इसका कारण कही न कही हमारी सरकार और शिक्षा के ठेकेदार ही है......स्कूल में ही हमारे दिमाग में ऐसी बाते भर दी जाती है की ये छोटा काम है और वो बड़ा ......इसमें अभिभावकों को भी सामने आकर बच्चो को समझाने की थोड़ी आवश्यकता है. थोड़ी शाब्दिक त्रुटियाँ भी है जो शायद आगे न हो.
खैर, मेरे बोलने से तो कोई भी अंतर नहीं होने वाला है.....अंत में मैं यही कहूँगा की बहुत ही दार्शनिक लेख था आपका.

Reply

रिव्यु
अनिक प्लैनेट#3 जनवरी अंक
विषय राष्ट्रभक्ति
सबसे पहले कवर आर्ट के बारे में कहुंगा कि देशभक्ति को दर्शाता हुआ एक बढ़िया कवर पेज
सम्पादकीय बातें अच्छी हैं भावनात्मक रुप से सभी आपस में जुड़े हैं

गणतंत्र के मायने समझें(लेख) काफी उम्दा लेख है सारी जानकारी दिलचस्प है वाकयी मायने समझनें चाहियें

लिजा(पात्र परिचय) इस कैरेक्टर के बारे में जानकारी मुझे पहले नहीं पता थी तो यहां ये जानकारी बहुत अच्छी लगी पढ़ने लायक एक बढ़िया कॉलम

हरियाणवी फैन की चिट्ठी एक ऐसे फैन की चिट्ठी संजय सर के लिये जो कहना चाहता है कॉमिक्स मेरा जुनून हैं और सभी भाषाओं को थोड़ा थोड़ा डॉयलॉग मिले

26 जनवरी(लेख) गणतंत्र दिवस पर इस लेख ने काफी कुछ सिखाया कैसे मनाना शुरु किया गया एक बढ़िया कॉलम

देशभक्ति(कहानी) एक पुत्र की देशभक्ति को दर्शाती एक बेहतरीन कहानी जिसने सभी को बताया की देशभक्ति के मायने क्या होते हैं

नपाक(चित्र कथा) भारतीय समा पर सीजफायर के उल्लंघन को बयान करती एक बढ़िया चित्र कथा नागराज का पहुंचना और फाइट सीन बढ़िया लगा

एक भूल(कहानी) कहानी का टाइटल कहानी के हिसाब से बिलकुल सटीक बैठता है कहानी बहुत बढ़िया है अच्छा लगा पढ़ के जबरदस्त

पाकिस्तान जिंदाबाद(समीक्षा01) राज कॉमिक्स की कॉमिक्स पर ये समीक्षा अच्छी लगी कॉमिक के बारे में अच्छी बातें भी बतायी गयी हैं और बुरी बातें भी कुल मिलाकर एक बढ़िया कॉलम

हमारा देश हिंदुस्तान(कविता) देशभक्ति को जगाती हुई एक बेहतरीन कविता

देशभक्ति और डोगा भक्ति(कहानी) देश के दुश्मनों से देश को बचाने पर आधारित डोगा की बढ़िया कहानी

भारत की आह(कविता) देश के घावों को दर्शाती एक बेहतरुन कविता

शहीदों को नमन(कविता) वीर शहीदों को श्र्द्धांजली देती हुई के शानदार कविता

जिन्दा है जुनून(आर्टवर्क) तिरंगा का एक बढ़िया आर्टवर्क

चाय वाला(संस्मरण) शुरुआत में थोड़ा अटपटा लगा पर आगे पढ़ने पर असली मकसद सामने आया एक चाय वाले की दुकान पर क्या और कितनी देशभक्ति की बातें होती हैं ये जानकारी! बढ़िया लेख

हमारे नायकों के प्रेरणा स्रोत भाग 03(वीर सावरकर) एक बढ़िया लेख उनकी वीरता और देशभक्ति का साक्षात चेहरा दिखाता हुआ एक लेख

ये तो मेरा काम था(कहानी) बहतरीन कहानी अंदर तक हिला के रख दिया देश के लिये जान देने वाले सैनिकों को समर्पित ये कहानी लाजवाब है

हल्ला बोल(समीक्षा02) 26/11 के हमलों पर आधारित राज कॉमिक्स की एक कॉमिक्स हल्ला बोल की बहुत बढ़िया तरीके से समीक्षा की गयी है

मैं हूं तिरंगा(जानकारी) हमारे स्वामिमान राष्ट्रध्वज के बारे में ये जानकारी बहुत बढ़िया लगी! कैसे तिरंगा बनाया गया कैसे पेश किया गया ये सारी जानकारी बहुत अच्छी लगी

उपहार पेज जी हां मैं इस पेज को उपहार पेज ही कहुंगा अनिक के बारे जानकारी देता यह पेज बहुत बढ़िया है विषेश निवेदन यह पेज जरुर पढ़ें

कमियां- कमियों के बारे में सिर्फ इतना कहाना चाहुंगा की टाइपिंग मिस्टेक है एक दो जगह और ये भी आने वाले समय सुधार दी जायेगी ऐसा मेरा विश्वास है

धन्यवाद आपका-जैक रावत

Reply

अनिक मिलने में इस बार थोड़ी देर हो गई । कुछ उधर से; कुछ इधर से भी । बहरहाल; देर आए दुरूस्त आए वाली कहावत सटीक बैठती है इस पर क्योंकि इस बार का अंक लाजवाब बन पड़ा है । अशुद्धियों को छोड़ दिया जाए तो सब कुछ बढ़िया है । *हरेन्द्र जी* का कवर आर्ट सुन्दर है ।
आगे मैगजीन में देशभक्ति के अर्थ बताने वाले *ऋषभ भाई* के लेख & कहानी पसंद आए ।
*राकेश वर्मा* जी का आर्टवर्क अच्छा है ( वही face वाली problem बस) ।
*दिव्यांशु* भाई की कहानी भी superb है । देश के जवानों का त्याग भावुक कर देता है ।
अभी मैगजीन पूरी नहीं पढ़ पाया हूँ; So.. बाकी का रिव्यु बाकी रहेगा...

Reply

Superb... bahut achchha tha yh issue

Prabhu samriya

Reply

Achchha prayas h ... ek sujhav h Art or strip jyada rakhiye . Yh bahut kam h
Next issue ka wait h

Reply

समीक्षा :- हरयाणवी फेन की चिट्ठी. (अनिक प्लेनेट से)
समीक्षक:- सजल सहाय (शैडो मास्टर)
मुझे नहीं लगता की लेखक का नाम जानने के बाद इसका रिव्यु देना सही है क्योंकि मोहित भाई की हर चीज़ बड़ी गज़ब लगती है....लेकिन फिर भी इस चिट्ठी को पढने के बाद मैं अपने भाव बताने से रुक नहीं पा रहा हूँ......
बड़ा मज़ा आया आपकी चिठी पढ़ कर.....ये एक ऐसी चिट्ठी है जिससे हम सब कनेक्ट हो सकते है.....क्योंकि सबकी डांट खाने के बावजूद कॉमिक्स पढना...... कॉमिक्स पढ़ते वक़्त उस रंग बिरंगी दुनिया में नायिकायों के साथ खुद को इमेजिन करना......ये हम सबने किया है.........बहुत ही बेहतरीन तरीके से लिखी हुई चिठ्ठी.
बस एक बात का गुस्सा है.....आपने विसर्पी का ही नाम क्यों यूज़ किया 😅😜.....एक वही मिली थी क्या 😅😀....... खैर मुझे बड़ा मज़ा आया और उम्मीद है की बाकी सब को भी मज़ा आया होगा.

Reply