Tuesday, 12 April 2016

कॉप यूनिवर्स प्रस्तुत करते हैं.......

" शादी या बर्बादी...😂..."

लेखक: अभिराज ठाकुर...."सटकी खोपड़ी.."

देखो बे ये आखिरी बार है....ऎसे जबरजस्ती नहीं चलेगी....अबे एक एक घंटे मैं कोई भी टॉपिक दे के कोई कहानी लिखवाता है....क्या...10 बज रहा है....और क्या लिखूं समझ नहीं आ रहा ....😬😬

खैर.......

स्थान: आकिब का घर..... समय :, 2:00 pm


आकिब अभी अभी सो के उठा था.....उसने फ़ोन उठाया....और नेट खोल के whtsup मैं लग गया....सभी ग्रुप्स चैट दनादन भरी हुईं थीं....और एक प्राइवेट msg था सजल....का

तो आकिब ने सभी ग्रुप मैं थोड़ी मस्ती करने के बाद....सजल को msg किया....!

आकिब: और भ्राता सजल कैसे हैं....? एग्जाम कैसे रहे आपके....??

सजल : बस भाई यूँ समझो....बला टली.... खींच खाँच के निपटा दिए सब एग्जाम......!

आकिब: अच्छा जी और बताएं आजकल ग्रुप मैं कम ही नजर आ रहे हैं....!?

सजल : अरे वो भाई मैं ऑनलाइन कम आता हूँ....!

आकिब: व्यर्थ मैं झूठ न बोलिये....आप पूरा दिन ही ऑनलाइन रहते है....बस ग्रुप मैं नहीं आते...!

सजल: अरे....भाई वो तो मैं....बस यूँ ही हाल चाल लेने आता हूँ....!!

आकिब: हाल का तो पता नहीं पर आपके चाल चलन कुछ ठीक नहीं लग रहे आजकल....बहुत dp चेंज हो रही दिन मैं 2 2 3 3 बार क्या बात है...??😎

सजल: अरे वो तो बस यूँ ही...😄

आकिब : कुछ भी यूँ ही नहीं होता जनाब कुछ तो झोल है....?

सजल: अरे अब तुमसे क्या छुपाऊँ...
यार इस बार मैं एग्जाम देने जाता था....तो मेरी आगे वाली....रो मैं एक खूबसरत बला को देखा....आँखों ही आँखों मैं बात हुयी....कुछ हसीं मुलाकात हुयी और तेरे भाई को प्यार हो गया....😍😍

आकिब:क्या बात कर रहा है बे...😳.........  अ अ मेरा मतलब .....वाह क्या बात है...नं लिया की नहीं उसका...?


सजल : अरे लिया न भाई उसी से तो पूरा टाइम बात होती है...हीहीही...!


आकिब: वाह जी वाह...आप तो छुपे रुस्तम निकले....अभी कॉप वाले भाइयो को बताता हूँ....!...

सजल: अबे नहीं बे....😱😱....उन्हें तो गलती से भी मत बता देना....
वरना सभी मिलके मेरी बजा देंगे....वैसे भी बहुत मजे लेते है वो लोग....नाबालिग नाबालिग बोल के...गुर्रर्रर्रर्रर्र....!

आकिब : हाँ यार अब तो कुछ ज्यादा ही हो रहा है....जब देखो तब जन्नत जन्नत बोल के मेरे भी मजे लेते रहते हैं....😣😣

सजल: अच्छा वो छोड़ो और सुनाओ...तुमने और अभिषेक ने नए ग्रुप भी बना लिए हैं...!

आकिब: हाँ भाई....2 हैं आपको भी जोड़ा है देखिएगा कैसे हैं.....!??

सजल : अरे बहुत बढ़िया....👍....सही ग्रुप हैं....और ये अभिषेक तो जवाब भी नहीं देता msg का बहुत ज्यादा ही बिजी हो गया है....!


आकिब: हाँ भाई बड़े लोग हैं....😞😞

सजल : अच्छा सुनो....कल मैं नेहा से मिलने जा रहा हूँ....रॉकर्स क्लब के पीछे वाले कॉफी हाउस मैं....तुम भी आ जाओ अभिषेक को भी लिए आना बहुत दिनों से मिले नहीं हैं हम लोग भी.....!

आकिब : अच्छा तो भाभी जी का नाम नेहा है.....हाँ जी बिलकुल आ जायेंगे,....!


नोट: ये कथानक पूर्णतया काल्पनिक है  और बहुत ही जल्दी और बेहोसी की अवस्था मैं लिखी गयी है....तो कृपया करके...." अरे आकिब सजल तो अलग सहरो से हैं....एक साथ कैसे हो गए...जैसे सवाल अगर मन मैं आएं तो मन मैं ही रहने दीजिये....टाइपिंग मिस्टेक और लुपहोल ढूंढने वाले...शांति का सहयोग करें....!

स्थान: कॉफी हाउस....

कोने की टेबल पर सजल और नेहा जी विराजमान थे....और 2 3 टेबल बाद....जन्नत मतलब...आकिब और अभिषेक उसी तरफ कान लगाये....बैठे थे....!


सजल की ये पहली डेट थी....ऊपर से तो नार्मल दिख रहा था...पर अंदर से उसकी हवा खराब थी....

Post a Comment: