Saturday, 7 November 2015

अलकेमिस्ट की वापसी
पार्ट 2.......
VERY VERY SPECIAL THANKS TO~
VASUDEV BHAI
JINHONE MERI HELP KI IS STORY KO PREPARE KRNE MEI
हाँ तो अब स्टोरी पर आते हैं......
पिछले भाग में आपने पढ़ा अलकेमिस्ट वापस आ गया है और अब वो ध्रुव से बदला लेना चाहता है
इसमें उसकी मदद करती है मिस किलर जिसको वो आज़ाद करा लेता है। नागराज सिग्मा को हरा देता है और
ध्रुव की भिड़ंत होती है एक बड़े रोबोट से जिसने उसे लगभग मार ही डाला है
अब पढ़िए आगे--~
मौत करीब थी!!!!!!!
वह कंटेनर ध्रुव पे गिर रहा था और अब ध्रुव बचने के लिए कुछ भी नहीं कर सकता था। लेकिन एक चमत्कार अभी बाकि था
कंटेनर हवा में ही रुक गया था। उसे किसी ने थाम लिया था। और इतने मज़बूत हाथों का मालिक एक ही हो सकता था!! और वो था 450 किलो वजनी इंस्पेक्टर स्टील। स्टील ने उस कंटेनर को जोरदार तरीके से रोबोट की तरफ उछाल दिया । कंटेनर का हमला इतना जबरदस्त था की रोबोट गिर गया
और इतने समय में स्टील को ध्रुव से बात करने का मौका मिल गया।
स्टील-ध्रुव,तुम ठीक तो हो न??अभी यहीं इस इलाके में अपराध हुआ था और उसी के चक्कर में मैं यहाँ आ पहुँचा|
ध्रुव-हाँ ठीक हूँ। तुम्हारा शुक्रिया स्टील की तुमने मुझे बचा लिया ।अब हमे सारा ध्यान इस रोबोट को हराने में लगाना चाहिए
अब रोबोट खड़ा हो चुका और उसने भयानक तरीके से उन दोनों की तरफ मुक्का मारा। ध्रुव और स्टील,दोनों वार से बच गए ।
स्टील ने उसकी तरफ अपने मेगा गन तान दी और वार करने लगा । तभी रोबोट भी आक्रामक मुद्रा में आ गया और अपनी गन से स्टील पर गोलियां बरसाने लगा। स्टील उसके वार का मुहतोड़ जवाब अपनी मेगा गन से देने लगा जबकि ध्रुव रोबोट की मिसाइल्स से बच रहा था।
ध्रुव-इसको हराऊँ तो हराऊँ कैसे??मेरा हर वार ये पचा जाता है और तो और स्टील की मेगा गन भी ज्यादा असर नहीं दिखा रही है!!!अगर इसे जल्द रोक नहीं गया तो हम दोनों के साथ साथ राजनगर की भी  जान पर बन आएगी
: तभी कहीँ से  टीं टीं टीं टीं की आवाज़ आने लगती है,यह ध्रुव के ट्रांसमीटर की आवाज़ थी और लगातार आ रही थी ।
ध्रुव-ओह,कमांडो headquarter से मेसेज है ।स्टील,इस रोबोट को अभी तुम्हें ही रोकना है,जब तक मैं मेसेज रिसीव करलूं ।
स्टील-ठीक है लेकिन जल्दी करना
ध्रुव मेसेज रिसीव करता है
"हाँ बोलो करीम"
करीम-ध्रुव,अभी नागराज की भिड़ंत एक इंसान से हुई ।नागराज ने उसे हरा दिया और उससे सच उगलवा लिया । सुनो---
और ध्रुव ने जो सुना,उससे उसके चेहरे पर आश्चर्य के भाव आ गए
ध्रुव-ये क्या हो गया,अब "उसे"रोकना जरुरी है ।
: ध्रुव ट्रांसमीटर रख देता है और स्टील की तरफ देखता है
स्टील-क्या हुआ ध्रुव?
ध्रुव-मुझे पता चल गया की इन सब हमलों के पीछे कौन है,लेकिन अभी इस रोबोट को तोडना है,शुक्र है की तुमने अभी तक इसे रोक रखा है।
स्टील-नहीं,रोकने की जरुरत नहीं पड़ी,जब तुम बात कर रहे थे तो ये अचानक रुक गया था
तभी रोबोट हरकत करने लगता है और गन निकल लेता है....
ध्रुव-और क्या हुआ था??
स्टील-और साथ में इसके गर्दन के पिछले हिस्से से चिंगारियां निकल रही थी,जैसे शार्ट सर्किट हो।
: ध्रुव-बस!!पता चल गया मुझे की इसे कैसे रोकना है,स्टील बस तुम इसकी गर्दन के पिछले हिस्से में वार करते रहो तब तक मैं इसको बहकाता हूँ ।
स्टील उसपर ताबड़तोड़ वार करने लगता है,और कुछ देर बाद रोबोट लड़खड़ाकर गिर रहा था
: वाह ध्रुव!!तुम्हारी सूझ-भूझ से ही इस रोबोट को हराना संभव हो पाया ।लेकिन ये बताओ,की तुम्हारे दिमाग में इसे हराने का आईडिया कैसे आया?
ध्रुव-जब तुमने बताया की मैं ट्रांसमीटर पर बात कर रहा था तब रोबोट अचानक रुक गया था और गर्दन के पिछले हिस्से से चिंगारियां निकल रहीं थीं,तभी मैं समझ गया था की इसमें कोई न कोई भेद है
: और वो एक ही हो सकता था। ये तो कॉमन बात थी की इस रोबोट को कोई दूर से बैठा चला रहा था । और जब मैंने ट्रांसमीटर पे बात की,तब इसको चलाने के सिग्नल बाधित हो गए होंगे । और सिग्नल रिसीव न कर पाने के कारण ये रुक गया होगा और इसके सिग्नल रिसीवर पर दबाव पड़ा होगा
: और तभी तो रोबोट में से चिंगारियां निकलीं होंगी!!फिर आगे का तुम जानते ही होगे ।
स्टील-तुमको ट्रांसमीटर पर क्या पता चला?
ध्रुव-एक हमला महानगर में भी हुआ था,लेकिन नागराज ने उसे हरा दिया और उससे सच उगलवा लिया
सुनो
इन सब हमलों के पीछे अलकेमिस्ट का हाथ है और अब उसने मिस किलर को भी अपने साथ मिला लिया है!!इनको अब रोकना होगा वर्ना राजनगर और महानगर पर गाज गिर पड़ेगी
: स्टील-ओह हाँ,ये तो वही अलकेमिस्ट है और अब इसे रोकना जरुरी है
: ध्रुव अपने घर को निकल पड़ता है
घर पर~
ध्रुव शांति से बैठा हुआ था और अलकेमिस्ट के बारे में सोच रहा था । वो टीवी ऑन करता है और न्यूज़ देखने लगता है । तभी अचानक से उसका ट्रांसमीटर बज उठा । वो रिसीव करता है ।
अलकेमिस्ट-(ट्रांसमीटर पे)
: ओहो!!!ध्रुव तुम्हारे दिमाग की दाद देनी पड़ेगीपहचाना मुझे??
ध्रुव-कुत्ते,कमीने तू वापस आ गया अलकेमिस्ट!!!!
अलकेमिस्ट-हुम्......आखिर पहचान लिया मुझे । तूने मेरे और मिस किलर के हमलों को तो विफल कर दिया लेकिन अब तू देखेगा अब महानगर और राजनगर की तबाही का मंजर!!!क्योंकि मैंने दोनों शहरों में केमिकल बम फिट कर दिए हैं । जब भी केमिकल बम फटेंगे,100 मीटर के एरिया में जितने भी लोग होंगे सब के सब भुने आलू की तरह उबल जायेंगे!!!!7 बोम्बस् हैं और ये सभी ऐसी स्थानों पर छिपे हैं जिन्हें तू क्या,ब्रह्माण्ड रक्षक भी 7 जन्मों तक ढूंढ न पाएंगे!!!हा हा हा हा हा हा
: ध्रुव नागराज से ब्रह्माण्ड रक्षक की फ्रीक्वेन्सी पर संपर्क करता है
नागराज-हाँ ध्रुव बोलो । तुमको मैंने कमांडो हेड क्वार्टर के ज़रिये जो बता दिया था,वो तुमको पता ही चल गया होगा
: मुझे खबर मिली थी की तुमने और स्टील ने उस रोबोट को हरा दिया है
ध्रुव-हाँ मुझे सब पता चल गया था और तुमने सही खबर सुनी है । लेकिन अब जो खबर मैं तुम्हे सुनाने जा रहा हूँ उससे तुम वाकई चिंतित हो जाओगे ।
और ध्रुव उसे अलकेमिस्ट का मेसेज सुना देता है
नागराज-हुम्.....ये तो वाकई चिंता की बात है । लेकिन ये एक अफवाह भी हो सकती है और दुश्मन की चाल भी । हमे कल तक का wait करना होगा
ध्रुव- ओके नागराज
AGLE DIN
ध्रुव का ट्रांसमीटर बज उठता है
अलकेमिस्ट-ओहो!!ध्रुव अभी तक तुम बम ढूंढने नहीं गए । खैर! अब से 5 घंटे बाद सारे बम फट चुके होंगे!!!!तुम्हारा टाइम शुरू होता है अब!!!!!!!
: ध्रुव नागराज को सब बता देता है
नागराज भी सकते में आ जाता है,ध्रुव और नागराज प्लानिंग करते हैं की आम जनता को इस बारे में कुछ भी पता नहीं चलने देना है ।
तय होता है की ध्रुव और  स्टील राजनगर के बम डिफ्यूज करेंगे और नागराज महानगर के बॉम्बस्  डिफ्यूज करेगा ।
ध्रुव नाश्ता करने लगता है की तभी श्वेता आ जाती है
श्वेता-हुर्रे!!!!!मैं जीत गयी!!!!
ध्रुव-क्या हुआ श्वेता
श्वेता-हमारे कॉलेज में आतंकवाद से निपटने का प्रोग्राम चल रहा था । उसके लिए मैं ये "बॉम्ब डिटेक्टर" बना के ले गयी थी और मुझे प्रथम स्थान प्राप्त हुआ । इस यन्त्र को चालू करने के बाद ये 1 मीटर के क्षेत्र में रखे किसी भी प्रकार के बॉम्ब को तुरंत पहचान लेता है। अच्छा है न
: ध्रुव-मेरी बहन ये यन्त्र अच्छा नहीं बहुत अच्छा है । मुझे ये यन्त्र चाहिए ।
श्वेता-लेकिन भैया.......
ध्रुव अपने स्टार ब्रेसलेट  कमरे में ही भूल गया था और उनको लेने के लिए अपने कमरे की तरफ भाग गया ।
ध्रुव ने फटाफट अपने ब्रेसलेट पहने लेकिन तभी वो देखकर आतंकित हो जाता है की उस यन्त्र से पिंग पिंग पिंग पिंग पिंग की आवाज़ आ रही थी। यन्त्र चालू था ।
ध्रुव-अरे!!!!ये यंत्र बज रहा है!!!!!यानि मेरे कमरे में..
"बॉम्ब है"-श्वेता बोली
हाँ भैया मैं यही देखने आई थी की तुम इसका क्या करोगे । और अब ये बज रहा है तो मतलब खतरा है ।
ध्रुव-हाँ ठीक है । अब तुमको बताना ही पड़ेगा की ये सब क्या हो रहा है,मैंने ये यन्त्र क्यों लिया तुझसे ।
और ध्रुव उसको अलकेमिस्ट की वापसी से लेकर अब तक की हर घटना सुना देता है
श्वेता-ओह!!वो कमीना अलकेमिस्ट!!!वापस आ गया है । तो फिर भैया मैं आपकी मदद करूंगी बॉम्बस् को  ढूंढने और डिफ्यूज करने में
ध्रुव-मुझे तुझसे ऐसी ही उम्मीद थी । अब हमे इस कमरे में रखा बम ढूंढना है ।
ध्रुव और श्वेता पूरा कमरा छान मारते हैं,लेकिन उनको बम नहीं मिलता लेकिन तभी ध्रुव बोल पड़ता है
अरे,एक जगह तो रह गयी,हो न हो बम वहीँ छिपा हुआ है।
श्वेता-कहाँ
ध्रुव-यहाँ  ,और अब इसे डिफ्यूज करना है
: महानगर में
नागराज बॉम्बस् को ढूंढने की प्लानिंग कर रहा था,इसके लिए उसने अपने सभी इच्छाधारी नाग बहार निकल लिए थे और हर नाग को उसकी पोजीशन बता रहा था ।
हाँ तो मित्रों आप सबको प्लानिंग बता दी है,जिस को भी बम मिलता है,वो तुरंत मुझे सूचित करेगा,और सौडांगी तुम मेरे साथ रहोगी । हाँ तो सब लोग निकल पड़ो!!!!!
नागराज-(सौडांगी से)हम दोनों को महानगर में हो रही किसी भी संदिग्ध वारदात पर नज़र रखनी है ।
सौडांगी-नागराज सब ठीक तो हो जायेगा न
नागराज-तुम चिंता मत करो,सब ठीक होगा
राजनगर में,ध्रुव का घर
ध्रुव-मुझे तो ऐसी जगह की उम्मीद ही न थी,बम मेरे पलंग के नीचे है!!!!
श्वेता-भैया मुझे भी उम्मीद नहीं थी,लेकिन अब इसको डिफ्यूज करना है
: बम में टाइमर चल रहा था
ध्रुव-ऐसा बम मैंने पहली बार देखा है,इसका मेकैनिस्म अलग है
श्वेता-हुम्....इसको तो में डिफ्यूज कर सकती हूँ,पर ये गारंटी नहीं ले सकती की ये फटेगा या डिफ्यूज होगा,मेरे ख्याल से ये हरा वाला तार काटने से बम डिफ्यूज हो जायेगा
ध्रुव-पक्का
श्वेता-हाँ 99% चांसेस हैं
ध्रुव हरे तार को झटके से काट देता है

श्वेता-आईईईईईईईईईईईईईई
ध्रुव-बधाई हो बहन,आज तुम्हारी सूझ-बूझ से बम डिफ्यूज हो गया अब मुझे नागराज को बताना होगा
ब्रह्माण्ड रक्षक की फ्रीक्वेंसी पे
ध्रुव-नागराज,एक बम डिफ्यूज हो चुका है
और ध्रुव उसे सारा घटनाक्रम सुना देता है और बम डिफ्यूज करने का तरीका भी समझा देता है
ध्रुव-मैं तो ये यन्त्र प्रयोग कर रहा हूँ लेकिन तुम क्या प्रयोग कर रहे हो और अभी तक कितने बॉम्बस् ढूंढे??
नागराज-अभी तक तो एक भी बम नहीं ढूंढ । मैंने अपने इच्छाधारी नागों को इस काम में लगा रखा है ।
ध्रुव-ओके । अब में स्टील के पास जा रहा हूँ और अब केवल 4 घंटे बचे हैं
: महा नगर में
नागराज को अचानक नागानंद के मानसिक संकेत मिलनेे लगते हैं
नागराज-ये सिग्नल तो स्नेक पार्क सेें मिल रहे हैं,मुझे तुरंत जाना होगा ।
नागराज स्नेक पार्क में जा पहुचता है और वो बम देखकर हैरान रह जाता है ।
"ऐसा बम तो पहली बार देख रहा हूँ,चलो अब इसे डिफ्यूज करता हूँ"
नागराज हरा तार ढूंढता है और उसे काट देता है ।
एक और बम डिफ्यूज हो चुका था
राज नगर में
ध्रुव स्टील के पास जा पहुँचता है जो बॉम्ब ढूंढने में लगा हुआ था
ध्रुव उसे उस यन्त्र के बारे में बता देता है
और यन्त्र चालू करते ही~
पिंग पिंग पिंग पिंग पिंग की आवाज़ आने लगती है ।
ध्रुव-ओह बज उठा,यानि 1 मीटर के एरिया में बॉम्ब है ।
ध्रुव बम को ढूंढने लगता है और स्टील के पास जाते ही सिग्नल तेज़ हो जाते हैं ।
ध्रुव-अरे स्टील तुम्हारे शरीर में बम फिट है ।
स्टील-कहाँ
ध्रुव-तुम्हारी मेगा गन में
स्टील-अरे!!!!मेरी मेगा गन में ये चीज़ कैसे आ गयी,ओह अब समझा!!!!जब मैं  रोबोट से लड़ रहा था तो उसी ने बम फिट कर दिया होगा ।
ध्रुव-बिलकुल हिलना मत!
और ध्रुव हरा वाला तार खींच देता है ।
एक और बम डिफ्यूज हो चुका था
ध्रुव,नागराज और स्टील ब्रह्माण्ड रक्षक की फ्रिकवेंसी पे लगातार जुड़े हुए थे और हर घटना क्रम साझा कर रहे थे
: महानगर में
नागराज को शीतनाग के सिग्नल मिलने लगते हैं । ये सिग्नल आ रहे थे रिसर्च लैब में से ।
रिसर्च लैब में-
शीत नाग बम को बर्फ से ढके हुए था ताकि दूसरे लोग उसे देख न पाये
नागराज उस बम को डिफ्यूज कर देता है और शीतनाग से पूछता है
नागराज-शाबाश शीतनाग!!तुम्हे ये बम कैसे मिला???
शीतनाग-मैं यहीं इस गलियारे से गुज़र रहा था था की तभी छत पर ये बम चिपक नज़र आया । ये बम a.c डक्ट के पास चिपका था और छुपा हुआ था । लेकिन मेरे नाग चक्षुओं ने इसे देख लिया
: और मैंने तुम्हे सिग्नल दे दिया ।
राज नगर में,कमांडो हेड क्वार्टर
ध्रुव रेनू,करीम और पीटर के साथ बैठा हुआ था और बम ढूंढ रहा था लेकिन उन्होंने पूरा हेड क्वार्टर छान मारा और बम नहीं मिला ।
तभी ध्रुव की नज़र एक कोने में पड़ती है,और ध्रुव वहां जाता है ।
क्यों करीम,क्या ये कंप्यूटर नया लिया गया है???ध्रुव पूछता है
करीम-हाँ कैप्टेन,आज ही लिया है
ध्रुव को कोई संदिग्ध चीज़ उस कंप्यूटर में नज़र नहीं आती लेकिन तभी उसे कुछ सूझता है और वो पूरा c.p.u खोलने लगता है ।
ध्रुव-ये रहा बम करीम
करीम-अरे ये कैसे आ गया
ध्रुव-सप्लाई करने वाला धोखेबाज़ निकला
ध्रुव उस बम को भी हरा तार निकल कर डिफ्यूज कर देता है
अब सिर्फ बचा था एक घंटे का समय और दो बम
: अलकेमिस्ट के अड्डे पर
मिस किलर-ये हो क्या रहा है अलकेमिस्ट,पूरी योजना गड़बड़ नज़र आ रही है
अलकेमिस्ट-बस तुम देखते जाओ मिस किलर,मैंने जानबूझकर बम आसान जगहों पर रखे थे,लेकिन वो चाहकर भी आखिरी बम नहीं ढूंढ सकते
महानगर में
नागराज को 1 घंटे से कोई सिग्नल नहीं मिला था और वो महानगर में हो रही हर छोटी से छोटी गतिविधि पर नज़र रख रहा था
तभी उसे नागु के सिग्नल मिलने लगते हैं  और अबकी बार सिग्नल आ रहे थे भारती कम्युनिकेशन्स से
नागराज वहां पर जा पहुचता है
नागु-नागराज,यहीं कहीं पर बम की तरंगे मुझे प्राप्त हो रही है लेकिन मैं अंदाज़ा नहीं लगा पा् रहा हूँ कहाँ से,क्योंकिं मेरी madi की शक्तियां यहीं तक सीमित हैं ।
नागराज-चलो ये भी बड़ी बात है की तुमने पता तो लगा लिया की यहीं पर बम है,अब आगे का काम मुझ पर छोड़ दो
नागराज सोचने लगता है"अगर अलकेमिस्ट बॉम्ब रखेगा तो कोई मामूली जगह। नहीं रखेगा,ओह हाँ!!!बम भारती के केबिन में होना चाहिए"
नागराज तुरंत भारती के केबिन में चला जाता है और बम ढूंढ लेता है,बम भारती के टेबल के नीचे था
नागराज उसे भी डिफ्यूज कर देता है
अब बचे थे सिर्फ 20 मिनट और 1 बॉम्ब
: ध्रुव-(नागराज से ब्रह्माण्ड रक्षक की फ्रीक्वेंसी पे)नागराज अब तक  कितने बॉम्बस् डिफ्यूज कर लिये?मुझे तो अब नहीं मिल रहे
नागराज-हाँ अब मुझे भी बॉम्बस् नहीं मिल रहे । और अब तो सिर्फ 15 मिनट बस हैं ।
ध्रुव-हमे बम ढूंढते रहना चाहिए,सफलता जरूर मिलेगी
नागराज-ठीक है
ध्रुव अपने दिमाग पर जोर डालता है
"अलकेमिस्ट ने कहा था की 7 बॉम्बस् हैं और तुम उनको 7 जन्मों तक नहीं ढूंढ पाओगे,इसमें कोई भेद है । अरे हाँ पता चल गया 7तवा बॉम्ब भी । राजनगर में 7 सीवर लाइन्स है और 7 में से किसी एक में बम है ।
मुझे रिस्क उठाना ही पड़ेगा,और मैं ट्राय करूँगा 7तवी सीवर लाइन में देखूंगा और अब सिर्फ 10 मिनट बचे हैं
ध्रुव जा पहुचता है 7th सीवर लाइन के main होल पर ।
अब बचे थे सिर्फ पांच मिनट ।
ध्रुव घुसता है
4 मिनट
बम को ढूंढने और अंदर जाता है
2 मिनट
बम उसे दिख जाता है,बम थोडा दूर था
वो दौड़ते हुए जाने लगता है
दौड़ता है
40 सेकंड
और दौड़ता है
अब सिर्फ दस सेकंड बचे थे,ध्रुव के चेहरे पर चिंता की लकीरें उभर आयीं
5 सेकंड
ध्रुव अपनी स्टार लाइन लांच कर देता है,स्टार लाइन लिपट जाती है हरे तार से
2 सेकंड
ध्रुव अपने हाथ को झटका देता है और तार बहार खीच लेता है,बम डिफ्यूज हो चुका था ।
अलकेमिस्ट अपने अड्डे पे:ओफ़्फ़!!!!बम डिफ्यूज कर दिया लड़के ने। मिस किलर,अब तो भागने में ही भलाई है
ध्रुव मेन होल से बहार निकल आता है,और नागराज को खुशखबरी सुना देता है
तभी अलकेमिस्ट का मेसेज आ जाता है
ध्रुव रिसीव करता है
अलकेमिस्ट:तुम सोच रहे हो की तुम जीत गए,असल में तुम हार गए क्योंकि तुम मुझे ढूंढ नहीं पाओगे
ध्रुव:मुझे तुम्हारी पोजीशन पता चल चुकी है क्योंकि मैंने अपने ट्रांसमीटर पर ट्रेसर लगा रखा है
अलकेमिस्ट:ओहो तो तुम्हे लगता है की तुम मुझे पकड़ पाओगे!!विचार छोड़ दो क्योंकि मैं और मिस किलर,मिस किलर की बनायीं हुई फ्लाइंग स्कूटर पर भाग रहे है
लेकिन तब तक ध्रुव स्टील के साथ अलकेमिस्ट के अड्डे पर पहुच चुका था
ध्रुव:तुम दोनों का खेल खत्म
अलकेमिस्ट:इतनी जल्दी कहाँ
और अलकेमिस्ट एक कैप्सूल फोड़ देता है
पूरे कमरे में धुंआ भर जाता है
और अलकेमिस्ट भाग निकलता है लेकिन मिस किलर छूट जाती है । वो भागने की कोशिश करती है लेकिन तभी उसे पीछे से एक जबर दस्त लात पड़ती है
ये नागराज ने वार किया था
स्टील मिस किलर को पकड़ लेता है और उसे गिरफ्तार कर लेता है ।
ध्रुव-नागराज तुम अचानक से कैसे आ गए
नागराज-ध्रुव,जब तुम अलकेमिस्ट से बात कर रहे थे तब ब्रह्माण्ड रक्षक की फ्रिकवेन्सि ऑन रह गयी थी । मैंने तुम्हारे और अलकेमिस्ट की बातें सुन ली और यहाँ आ गया
दूर कहीं
अलकेमिस्ट फ्लाइंग स्कूटर पर भाग रहा था और दांत पीसते हुए कह रहा था
"ध्रुव मेरा बदला पूरा होकर रहेगा"

Post a Comment: