Sunday, 22 November 2015



Sunday

6 am

vasu: ओ ये तो सुबह आते ही नही हीहीही

ऋषभ: सुप्रभात🙏🏻

राकेश: Good Morning bhaiyon

विपुल: kya ho raha hai bhai log

राकेश : abhi to aaye hi hain bhaai kuch huaa kahaan
😜😜

sajal : GM bhaai

राकेश : Good Morning bhaai

सजल: bhaai aaj quiz hone wala thaa kal kisi ne bolaa thaa

ऋषभ: तो क्या अब ठीक से जागने भी न दोगे???😜😜😜😜

सुबह सुबह ही शुरू हो जाएं?

सजल: nahi bhaai ham to bas bol rahe the

ऋषभ: तो हम कौन सा चुप हैं 😁😁😁😁

सजल: 😜😜😜

aditya: gm

राकेश : Good Morning bhaai

aditya : aur kya ho raha hai

राकेश : kuch nhi

aditya: oh

निशांत: सुपरभात मित्रों🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻

ऋषभ: भाई भात तो सुना था सुपरभात क्या होता है😂😂😂

निशांत: rishav😡😡😡😡

(निशांत offline)

7:30 am

प्रिंस: good mornging

प्रिंस: morning

राकेश: Good Morning bhaai

अलीम: Good Morning🙏🏻
bhaai koi game bataao android ke liye
करना है mtlab khelnaa hai 😁

ऋषभ: भाई पिछली बार तो बताया था वो खेला?

अलीम: कल कोई कुछ कह रहा था

ऋषभ: भाई अभी की बात करिए पहले😂😂😂

अलीम: हां वो download नही हो पाया
कौन सा बोला था वैसे?

ऋषभ: भाई criminal cases

अलीम: कल किसने कहा था की....

ऋषभ: भाई अभी की बात खत्म तो कर लो पहले😁

अलीम: भाई criminal cases नही मिली wap पर

ऋषभ: भाई wap पर किसने बोला मैं तो playstore की बात कर रहा था😁😁😁

अलीम: 2 दिन पहले कोई कह रहा था

ऋषभ: अरे लोग कुछ न कुछ तो कहते ही रहते हैं भाई present मे रहो न game की बात करो game की😭😭😭


game सुनते ही प्रदीप प्रकट (ये "हर" game मे interested है)

प्रदीप: कौन सा game rishav भाई? मैंने ये खेला है वो खेला है। ऐसे खेला है वैसे खेला है। तुम सोच भी नही सकते क्या क्या खेला है!

ऋषभ: अबे अलीम भाई को download करना ही सिखा दे😂😂😂😂

प्रदीप: 😂😂😂😂

अलीम: हां भाई "आत्मा" रोती है जब download नही होता

प्रदीप offline सिर्फ यहां से गुमनाम मे किताब छपनी चालू हैं😁

तब तक group मे 70 80 msgs आ चुके हैं बिना किसी कॉमिक्स का नाम ल8ये।

8:45 am

आत्मा का नाम सुन के एक प्रभारी आत्मा प्रकट

प्रिंस: भाई आत्मा रो नही सकती वो कुछ महसूस नही करती।कचर पचर भगवान ने बनाया है मैंने बहुत पढ़ा है इस बारे मे कचर पचर

इस topic पर प्रिंस 7 msg कर चुका है अब तक जिसमे से 5 मे उसने गलत शब्द सही किये हैं

भगवान सुनते ही वासुदेव प्रकट

vasu: ओ mistake अब तक नही उठते वो😁


प्रिन्स चालू है अब तक

ब्रह्मा: भाई आज मैं सर्वेभारत का अगला पार्ट डालने वाला हूँ।

प्रिन्स: ye kua hai?

प्रिंस: kya

ब्रह्मा: रिशव बता इसको

राकेश जो अब तक हर group मे Good Morning चिपका चुका है प्रकट

राकेश: हमे क्यों नही बोला ऋषभ के साथ कुछ तो है ब्रह्मा😂😂😂😂😂

ब्रह्मा: बस यही गुनाह हर बार करता हूँ आदमी हूँ आदमी से प्यार करता हूँ😍😍😍😍


राकेश: 😂😂😂

प्रिंस: hshshshsshh

प्रिंस: hahahahahaha

पहला बन्दा है जो हंसने मे भी गलती करता है

ऋषभ:😡😡😡

आदित्य: chiku लाल कैसे हो गया निशानी कहाँ गया?
सर्वभारत क्या है? कहानी है तो डालो

यार बड़ा कानफूज़ है यो


सुनील भाई: Good Morning bhaai

राकेश: Good Morning bhai😃

ब्रह्मा: सुनील भाई आप कब डाल रहे हो


कहानी😁😁😁😁

प्रिंस: 👆🏻👆🏻👆🏻👆🏻
           😂😂😂😂

सुनील: आज

राकेश: ok मैं अभी अपनि अधूरी drawings दिखाता हूँ


भाई कितने छोड़ दिए हैं अधूरे की खत्म ना होते

सुनील:👍👍👍

(सुनील offline)

अब ये 3 बजे से पहले नही आने वाले

(136msgs)

11 am

कबीर: सभी भाइयो को मेरी तरफ से मलंग पोड़ गुड मॉर्निंग😎😎


नैतिक: 😂😂😂😂😂😂

भाई ये क्या कहा?

कबीर: कुछ नया😁😁😁

ब्रह्मा: आज कुछ तूफानी करते हैं😃😚😃

राकेश: ऋषभ को भी ले लो

प्रिंस: 👆🏻👆🏻👆🏻👆🏻
          😂😂😂😂

ऋषभ: शुक्र है राकेश भाई नए को भी की जगह 'की'
नही लिखा।
😂😂😂

प्रिंस; 👆🏻👆🏻👆🏻
            😂😂😂

प्रिन्स: hey pahalwan

प्रिन्स: bhagwan


😁😁😁😁

vasu: कहाँ है तुम्हारा भगवान? क्यों नअही आता ज़अरुरत मे?

😂😂😂 haha rishav

और प्रिन्स ये बताओ आत्मा कहाँ से जन्मी। क्यों जन्मी? किसकी बेटी हऐ? बेटी है या बेटा? कचर पचर

प्रिन्स: मैंने काफी पढ़ा है इस ब्रारे मे

बारे😁😁😁

vasu: बकबक भयंकर बकबक सब पता होने के बावजूद बकबक

प्रिन्स: कचर पचर अआत्मा सिद्धी नशा गांजा कचर पचर

vasu: seriously😂😂😂

ना भाई कोई सerious नही है😁😁



कबीर: waiting B bhai

नैतिक: 😂😂😂😂


कबीर भाई की हअर बात के साथ नैतिक भाई की हँसी मुफ़्त


ब्रह्मा: मैं कहानी डालूँगा


vasu: मैं कहानी का अगला पार्ट अहं भाग डालूँगा ध्यान से पढ़ना

सुनील: मैं कल डालूँगा

आदित्य: typical डालूँगा


मुस्तफा: आज कोई डालेगा या नही

ऋषभ: मैं प्यार को मारूंगा

सुनील: मैं review नही लिखूंगा

vasu: 😱😱😱😭😭😭😭


राकेश: मैं अधूरे sketches डालूँगा

अलीम: सबको 👏🏻👏🏻👏🏻👏🏻 बहुत अच्छी story

शारिक: review धरित्री अस्य:

कबीर: अपुन गश्त पे जाते time पढ़ेगा

नैतिक: 😂😂😂😂

प्रदीप: मैं गुमनाम हऊं

सब खत्म होने के बाद

अंकि: मैं आ गया दोस्तों


😂😂😂😂

इस तरह सब लगे रहते हैं बीच बीच मे कॉमिक्स की बआते भी आती हैं


कुछ एक बार आने के बाद रात को दर्शन देते हैं निशा का अंत करने😉

1000 से ऊपर मsg देख कुछ भाग लेते हैं कुछ भाग जाते हैं।

तन्मय भाई सर खुजाते हैं
राकेश भाई Good Night कहना नही भूलते ।


click here to download in pdf 

1 comments :

Hahahahaha abhi bhi padta hu ...hans hans ke pet me.dard ho jata he...:-)

Reply